सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय – Savitribai Phule Biography in Hindi

Savitribai Phule Biography in Hindi, सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय

प्रिये पाठक इस आर्टिकल में हम सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय पढेंगे, तो चलिए विस्तार से पढ़ते हैं सावित्रीबाई फुले का इतिहास (Savitribai Phule Biography in Hindi) जो परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही उपयोगी है। सावित्रीबाई फुले देश की प्रथम महिला शिक्षिका थी। सावित्रीबाई फुले – आरम्भिक जीवन, जन्म, जन्म – स्थाल, माता, पिता, पति, शिक्षा, … Read more

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय – Mahadevi Verma Biography in Hindi

Mahadevi Verma Ka Jivan Parichay

महादेवी वर्मा का जीवन परिचय: श्रीमती महादेवी वर्मा हिन्दी साहित्य की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक हैं। ये छायावादी काव्य के चार प्रमुख आधार स्तम्भों में से एक के रूप में जानी जाती हैं। महादेवी वर्मा जी को प्रयाग महिला विद्यापीठ की ‘कुलपति’ बनने का सौभाग्य भी प्राप्त हुआ। इन्हें अपनी रचनाओं में दर्द व पीड़ा की … Read more

मीराबाई का जीवन परिचय | Mirabai Biography In Hindi

मीराबाई का जीवन परिचय Mirabai Biography In Hindi

इस लेख में हम मीराबाई का जीवन परिचय (Mirabai Biography In Hindi) पढेंगे, तो चलिए विस्तार से पढ़ते हैं Mirabai Ka Jivan Parichay. जो परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही उपयोगी है। मीराबाई (Mirabai): श्रीकृष्ण की अनन्य उपासिका थी | अपने प्रियतम श्रीकृष्ण को पाने के लिए अपना राजसी वैभव त्याग दिया था। श्रीकृष्ण को ही … Read more

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ का जीवन परिचय

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ — सच्चिदानन्द हीरानन्द वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ को आधुनिक काव्य जगत में ‘प्रयोगवाद‘के प्रवर्तक एवं प्रसारक के रूप में जाना जाता है | ‘अज्ञेय’ प्रयोगवादी काव्यधारा के प्रवर्तक है नये युग के पुरोधा है | अधुनातन बोधो के साहित्य – सर्जक है | व्युत्पत्ति ने तो सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ बेमिसाल ही है | … Read more

सूरदास का जीवन परिचय – Surdas Ka Jivan Parichay

Surdas Ka Jivan Parichay

सूरदास का जीवन परिचय:- कृष्ण – भक्त शाखा के कवियों में अष्टछाप के कवि ही प्रधान है और उनमे भी श्रेष्ठतम कवि हिंदी सहित्य के सूर्य सूरदास जी है सूरदास जी वात्सल्य रस के “सम्राट” माने जाते है | आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के अनुसार – ‘जयदेव की देववाणी की स्निग्ध पीयूषधारा, जो काल की कठोरता में दब … Read more